Connect with us

Haridwar

Chardham Yatra 2021: Yatra Lasted 64 Days During Corona Period This Year, But Pilgrims Showed Enthusiasm And Made A Record – चारधाम यात्रा: कोरोनाकाल में 64 दिन चली यात्रा, लेकिन तीर्थ यात्रियों ने दिखाया उत्साह और जोश, बना रिकॉर्ड

Published

on


न्यूज डेस्क, अमर उजाला, देहरादून
Published by: Nirmala Suyal Nirmala Suyal
Updated Sun, 21 Nov 2021 10:36 AM IST

सार

चारधामों में कोविड संक्रमण की रोकथाम के लिए पर्याप्त व्यवस्थाएं न होने से हाईकोर्ट ने यात्रा पर रोक लगाई थी। इससे सरकार पर भी चारधाम यात्रा शुरू करने के लिए काफी दबाव रहा। जिसके बाद रसरकार की ओर से हाईकोर्ट में प्रार्थना पत्र देकर यात्रा पर रोक हटाने का आग्रह किया।

ख़बर सुनें

कोरोना संक्रमण की तीसरी लहर की संभावनाओं के बीच इस बार चारधाम यात्रा 64 दिन ही चली। लेकिन बदरीनाथ, केदारनाथ, गंगोत्री व यमुनोत्री में दर्शन करने के लिए यात्रियों ने रिकॉर्ड बनाया है। पिछले साल की तुलना में इस बार चारधाम यात्रा में ज्यादा यात्री पहुंचे हैं। कोविड महामारी के बावजूद तीर्थ यात्रियों ने यात्रा में उत्साह और जोश दिखाया है। बदरीनाथ धाम के कपाट बंद होने के साथ ही शनिवार 20 नवंबर को चारधाम यात्रा शीतकाल के लिए बंद हो गई है।  

हाईकोर्ट ने यात्रा पर लगाई थी रोक
चारधामों में कोविड संक्रमण की रोकथाम के लिए पर्याप्त व्यवस्थाएं न होने से हाईकोर्ट ने यात्रा पर रोक लगाई थी। इससे सरकार पर भी चारधाम यात्रा शुरू करने के लिए काफी दबाव रहा। जिसके बाद रसरकार की ओर से हाईकोर्ट में प्रार्थना पत्र देकर यात्रा पर रोक हटाने का आग्रह किया।

जय बदरीविशाल: शीतकाल के लिए बदरीनाथ धाम के कपाट बंद, अंतिम दिन भी लगी रही भक्तों की भीड़, तस्वीरें

कोर्ट की ओर से रोक हटाने से 18 सितंबर से चारधाम यात्रा शुरू की गई। जिससे प्रदेश का पर्यटन कारोबार भी पटरी पर लौटा। पिछले साल चारधामों में लगभग 3.21 लाख तीर्थ यात्रियों ने चारधामों में दर्शन किए। जबकि इस बार यात्रा देर से शुरू होने बाद भी पांच लाख से ज्यादा यात्री चारधाम पहुंचे। शनिवार को विधि विधान से बदरीनाथ धाम के कपाट बंद होने से चारधाम यात्रा शीतकाल के लिए बंद हो गई है। 

चारधाम यात्रा अगले साल तक बंद होने से अब बदरीनाथ, केदारनाथ, गंगोत्री व यमुनोत्री के शीतकालीन प्रवास स्थलों पर पर्यटन को बढ़ावा दिया जाएगा। सरकार का प्रयास है कि देश दुनिया के तीर्थ यात्री शीतकाल प्रवास स्थानों पर चारधामों के दर्शन करने आएं। कोविड नियमों का पालन करते हुए पिछले साल की तुलना में इस बार चारधामों में ज्यादा यात्री पहुंचे हैं।
-सतपाल महाराज, पर्यटन मंत्री 

वर्षवार चारधामों में दर्शन करने वाले यात्रियों का ब्योरा
धाम         –      वर्ष 2021     –   2020     –    2019
बदरीनाथ     –      197056    –    155009   –   1244100
केदारनाथ     –      242712    –    135287  –   998956
गंगोत्री         –      33166      –   23736      – 529880
यमुनोत्री      –       33306    –     7717     –    465111
………………………………………………………………………
कुल-               506240   –     321749  –     3238047

विस्तार

कोरोना संक्रमण की तीसरी लहर की संभावनाओं के बीच इस बार चारधाम यात्रा 64 दिन ही चली। लेकिन बदरीनाथ, केदारनाथ, गंगोत्री व यमुनोत्री में दर्शन करने के लिए यात्रियों ने रिकॉर्ड बनाया है। पिछले साल की तुलना में इस बार चारधाम यात्रा में ज्यादा यात्री पहुंचे हैं। कोविड महामारी के बावजूद तीर्थ यात्रियों ने यात्रा में उत्साह और जोश दिखाया है। बदरीनाथ धाम के कपाट बंद होने के साथ ही शनिवार 20 नवंबर को चारधाम यात्रा शीतकाल के लिए बंद हो गई है।  

हाईकोर्ट ने यात्रा पर लगाई थी रोक

चारधामों में कोविड संक्रमण की रोकथाम के लिए पर्याप्त व्यवस्थाएं न होने से हाईकोर्ट ने यात्रा पर रोक लगाई थी। इससे सरकार पर भी चारधाम यात्रा शुरू करने के लिए काफी दबाव रहा। जिसके बाद रसरकार की ओर से हाईकोर्ट में प्रार्थना पत्र देकर यात्रा पर रोक हटाने का आग्रह किया।

जय बदरीविशाल: शीतकाल के लिए बदरीनाथ धाम के कपाट बंद, अंतिम दिन भी लगी रही भक्तों की भीड़, तस्वीरें

कोर्ट की ओर से रोक हटाने से 18 सितंबर से चारधाम यात्रा शुरू की गई। जिससे प्रदेश का पर्यटन कारोबार भी पटरी पर लौटा। पिछले साल चारधामों में लगभग 3.21 लाख तीर्थ यात्रियों ने चारधामों में दर्शन किए। जबकि इस बार यात्रा देर से शुरू होने बाद भी पांच लाख से ज्यादा यात्री चारधाम पहुंचे। शनिवार को विधि विधान से बदरीनाथ धाम के कपाट बंद होने से चारधाम यात्रा शीतकाल के लिए बंद हो गई है। 



Source link

Continue Reading
Click to comment

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

Haridwar

Uttarakhand News: Madhya Pradesh Cm Shivraj Singh Chauhan Haridwar Visit Today – हरिद्वार: पतंजलि पहुंचे सीएम शिवराज सिंह चौहान, कहा- मध्य प्रदेश में होगा योग आयोग का गठन

Published

on

By


सार

सीएम चौहान पतंजलि योगपीठ भी जाएंगे। यहां वे राष्ट्रीय संगोष्ठी ‘वैश्विक चुनौतियों का सनातन, समाधान-एकात्म बोध’ में भाग लेंगे।

सीएम शिवराज सिंह चौहान से मिले मुख्मंत्री धामी
– फोटो : अमर उजाला

ख़बर सुनें

मध्य प्रदेश के मुख्यमंत्री शिवराज सिंह चौहान ने कहा कि प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी के नेतृत्व में वैभवशाली और गौरवशाली संपन्न भारत का निर्माण हो रहा है। उसके निर्माण के लिए संन्यासियों ने योग, आयुर्वेद, शिक्षा और अध्यात्म के माध्यम से देश ही नहीं पूरे विश्व में क्रांति की है। उन्होंने कहा कि योग की शिक्षा के लिए मध्य प्रदेश में अभियान चलाया जाएगा और प्रदेश में योग आयोग का गठन किया जाएगा। 

सीएम शिवराज सिंह चौहान बृहस्पतिवार को आजादी के अमृत महोत्सव पर पतंजलि योगपीठ में ‘वैश्विक चुनौतियों का सनातन समाधान-एकात्म बोध’ विषय पर आयोजित राष्ट्रीय संगोष्ठी एवं 75 करोड़ सूर्य नमस्कार संकल्प कार्यक्रम की वेबसाइट के लोकार्पण समारोह में बोल रहे थे। शिवराज सिंह चौहान ने कहा कि योग ऋषि स्वामी रामदेव और आचार्य बालकृष्ण ने योग, आयुर्वेद, भारतीय संस्कृति, वैदिक शिक्षा को विश्व पटल पर स्थापित किया है। स्वदेशी से आत्मनिर्भर भारत के नव-निर्माण के लिए योग व उद्योग के माध्यम से पतंजलि लाखों किसानों एवं युवाओं को रोजगार प्रदान कर रहा है। 

इस मौके पर योग गुरु स्वामी रामदेव ने कहा कि कहा कि देश में योग शिक्षा को आंशिक रूप से लागू करने के लिए टुकड़ों में प्रयास हो रहे थे, लेकिन मध्य प्रदेश के मुख्यमंत्री ने योग को व्यापक रूप से शिक्षा का अंग बनाने की पहल की है। 

आचार्य बालकृष्ण ने कहा कि पतंजलि से योग के महाअभियान का सूत्रपात होने जा रहा है। मध्य प्रदेश सरकार संस्कृति, परंपरा के संरक्षण एवं संवर्द्धन के लिए बेहतर कार्य कर रही है।

उन्होंने कहा कि मुख्यमंत्री ने प्रदेश के स्कूलों में योग शिक्षा लागू कर गांव-गांव तक योग के प्रचार-प्रसार की प्रतिबद्धता दोहराई है। उन्होंने कहा कि आज जीवन में विभिन्न प्रकार की समस्याएं हैं। यदि हम सनातन परंपराओं के आश्रय और जड़ को पकड़कर रखेंगे तो समस्याओं का समाधान वहीं से मिलेगा।

शांतिकुंज के स्वर्ण जयंती वर्ष पर मध्यप्रदेश के मुख्यमंत्री शिवराज सिंह चौहान परिवार समेत देव संस्कृति विश्वविद्यालय पहुंचे। शिवराज सिंह चौहान ने कहा कि देव संस्कृति विश्वविद्यालय की शिक्षा जीवन बदलने का अभियान है। 

मृत्युंजय सभागार में आयोजित कार्यक्रम में शिवराज सिंह चौहान ने कहा कि वह गायत्री परिवार के सदस्य के रूप में हरिद्वार आए हैं। उन्होंने कहा कि हम उस परंपरा से आते हैं, जहां हजारों वर्ष पहले ऋषियों-मुनियों के तप से भारत विश्व गुरु बना। उन्होंने कहा कि पंडित श्रीराम शर्मा आचार्य का प्रथम दर्शन आज भी याद है। उन्होंने कहा कि युग ऋषि की ओर से चलाए गए सप्त आंदोलन साधना, शिक्षा, पर्यावरण, स्वावलंबन, नारी जागरण, व्यसन मुक्ति एवं आदर्श ग्राम को मध्य प्रदेश शासन में विभिन्न योजनाओं के माध्यम से लागू किया।

इसका प्रत्यक्ष लाभ वहां के लोगों को मिल रहा है। शिवराज चौहान ने कहा कि विश्व का शाश्वत शांति की ओर मार्गदर्शन भारत करेगा, जिसमे अखिल विश्व गायत्री परिवार जैसे आधात्मिक-सामाजिक संस्थानों का महत्वपूर्ण योगदान होगा।

देसंविवि के प्रति कुलपति डॉ. चिन्मय पंड्या ने मुख्यमंत्री चौहान का स्वागत करते हुए कहा कि ऐसे व्यक्ति से युग ऋषि गुरुदेव के जीवन को सुनने को अवसर मिला है, जो स्वयं गुरुदेव के दिखाए रास्ते पर चलकर सामाजिक जीवन की उत्कृष्टता को हासिल किए। कुलपति एवं प्रतिकुलपति ने शिवराज सिंह चौहान को गायत्री स्मृति चिन्ह, गंगाजल एवं पंडित श्रीराम शर्मा आचार्य का साहित्य देकर सम्मानित किया। इस अवसर पर कुलपति शरद पारधी, कुलसचिव बलदाऊदेवांगन मौजूद रहे।

मुख्यमंत्री पुष्कर सिंह धामी ने कहा कि चारधाम देवस्थानम बोर्ड के बाद अब भू-कानून पर भी राज्य हित में फैसला लिया जाएगा। इसके लिए सभी की बात सुनी जाएगी और राय ली जाएगी। सरकार का फैसला उत्तराखंड के हित में होगा। 

मुख्यमंत्री पुष्कर सिंह धामी ने बृहस्पतिवार को देव संस्कृत विश्वविद्यालय में मध्यप्रदेश के मुख्यमंत्री शिवराज सिंह चौहान से मुलाकात के बाद पत्रकारों से बातचीत में यह बात कही। दोनों मुख्यमंत्रियों ने देव संस्कृति विश्वविद्यालय परिसर स्थित शौर्य दीवार पर शहीदों को पुष्पांजलि अर्पित कर नमन किया।

इसके बाद देव संस्कृति विश्वविद्यालय परिसर में मौलश्री के पौधे का रोपण किया। मुख्यमंत्री पुष्कर सिंह धामी ने कहा कि मध्यप्रदेश के मुख्यमंत्री शिवराज सिंह चौहान भाजपा के वरिष्ठ नेता हैं। जिनसे लगातार मार्गदर्शन मिलता रहा है। इस दौरान कैबिनेट मंत्री स्वामी यतीश्वरानंद, देव संस्कृति विश्वविद्यालय के प्रति कुलपति डॉ. चिन्मय पंडया आदि मौजूद रहे।

विस्तार

मध्य प्रदेश के मुख्यमंत्री शिवराज सिंह चौहान ने कहा कि प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी के नेतृत्व में वैभवशाली और गौरवशाली संपन्न भारत का निर्माण हो रहा है। उसके निर्माण के लिए संन्यासियों ने योग, आयुर्वेद, शिक्षा और अध्यात्म के माध्यम से देश ही नहीं पूरे विश्व में क्रांति की है। उन्होंने कहा कि योग की शिक्षा के लिए मध्य प्रदेश में अभियान चलाया जाएगा और प्रदेश में योग आयोग का गठन किया जाएगा। 

सीएम शिवराज सिंह चौहान बृहस्पतिवार को आजादी के अमृत महोत्सव पर पतंजलि योगपीठ में ‘वैश्विक चुनौतियों का सनातन समाधान-एकात्म बोध’ विषय पर आयोजित राष्ट्रीय संगोष्ठी एवं 75 करोड़ सूर्य नमस्कार संकल्प कार्यक्रम की वेबसाइट के लोकार्पण समारोह में बोल रहे थे। शिवराज सिंह चौहान ने कहा कि योग ऋषि स्वामी रामदेव और आचार्य बालकृष्ण ने योग, आयुर्वेद, भारतीय संस्कृति, वैदिक शिक्षा को विश्व पटल पर स्थापित किया है। स्वदेशी से आत्मनिर्भर भारत के नव-निर्माण के लिए योग व उद्योग के माध्यम से पतंजलि लाखों किसानों एवं युवाओं को रोजगार प्रदान कर रहा है। 

इस मौके पर योग गुरु स्वामी रामदेव ने कहा कि कहा कि देश में योग शिक्षा को आंशिक रूप से लागू करने के लिए टुकड़ों में प्रयास हो रहे थे, लेकिन मध्य प्रदेश के मुख्यमंत्री ने योग को व्यापक रूप से शिक्षा का अंग बनाने की पहल की है। 

आचार्य बालकृष्ण ने कहा कि पतंजलि से योग के महाअभियान का सूत्रपात होने जा रहा है। मध्य प्रदेश सरकार संस्कृति, परंपरा के संरक्षण एवं संवर्द्धन के लिए बेहतर कार्य कर रही है।

उन्होंने कहा कि मुख्यमंत्री ने प्रदेश के स्कूलों में योग शिक्षा लागू कर गांव-गांव तक योग के प्रचार-प्रसार की प्रतिबद्धता दोहराई है। उन्होंने कहा कि आज जीवन में विभिन्न प्रकार की समस्याएं हैं। यदि हम सनातन परंपराओं के आश्रय और जड़ को पकड़कर रखेंगे तो समस्याओं का समाधान वहीं से मिलेगा।



Source link

Continue Reading

Haridwar

Swami Bhoomananda Was A Divine Great Man: Achyutananda Tirtha – महान दिव्य महापुरूष थे ब्रह्मलीन स्वामी भूमानंद: अच्यूतानंद तीर्थ

Published

on

By


सिद्धपीठ श्री भूमा निकेतन आश्रम में ब्रह्मलीन स्वामी भूमानंद तीर्थ की तीसवी पुण्यतिथि पर भक्तो?
– फोटो : HARIDWAR

ख़बर सुनें

सिद्धपीठ श्री भूमा निकेतन आश्रम में ब्रह्मलीन स्वामी भूमानंद तीर्थ की 30 वीं पुण्यतिथि पर भूमा पीठाधीश्वर स्वामी अच्युतानंद तीर्थ और श्रद्धालुओं ने उन्हें श्रद्धा सुमन अर्पित किए।
इस मौके पर स्वामी अच्युतानंद तीर्थ ने कहा कि भूमा निकेतन आश्रम के संस्थापक स्वामी भूमानंद तीर्थ एक महान दिव्य महापुरुष थे। जिन्होंने देवभूमि उत्तराखंड की पावन धरा हरिद्वार में भूमा निकेतन आश्रम की स्थापना कर कई सेवा प्रकल्प समाज हित में प्रारंभ किए और भारतीय संस्कृति एवं सनातन धर्म के प्रचार प्रसार के लिए युवा पीढ़ी को प्रेरित किया। राष्ट्र निर्माण में उनका अतुल्य योगदान सभी को स्मरणीय रहेगा।
स्वामी अच्युतानंद तीर्थ ने कहा कि ब्रह्मलीन स्वामी भूमानंद तीर्थ गो, गंगा और गायत्री के प्रबल समर्थक थे। जिन्होंने समाज में फैली कुरीतियों को दूर कर प्रत्येक वर्ग के हित के लिए कार्य किया। ऐसे महापुरुषों के जीवन से प्रेरणा लेकर सभी को समाज कल्याण में अपनी सहभागिता निभानी चाहिए।
भूमा निकेतन आश्रम के प्रबंधक राजेंद्र शर्मा ने ब्रह्मलीन स्वामी भूमानंद तीर्थ को श्रद्धांजलि अर्पित करते हुए कहा कि महापुरुषों का जीवन सदैव समाज हित में समर्पित रहता है। स्वामी सर्वेशानंद, राजेंद्र शर्मा, देवराज तोमर, विजय शर्मा, सुरेश शमा, हरिओम शर्मा आदि मौजूद रहे।

सिद्धपीठ श्री भूमा निकेतन आश्रम में ब्रह्मलीन स्वामी भूमानंद तीर्थ की 30 वीं पुण्यतिथि पर भूमा पीठाधीश्वर स्वामी अच्युतानंद तीर्थ और श्रद्धालुओं ने उन्हें श्रद्धा सुमन अर्पित किए।

इस मौके पर स्वामी अच्युतानंद तीर्थ ने कहा कि भूमा निकेतन आश्रम के संस्थापक स्वामी भूमानंद तीर्थ एक महान दिव्य महापुरुष थे। जिन्होंने देवभूमि उत्तराखंड की पावन धरा हरिद्वार में भूमा निकेतन आश्रम की स्थापना कर कई सेवा प्रकल्प समाज हित में प्रारंभ किए और भारतीय संस्कृति एवं सनातन धर्म के प्रचार प्रसार के लिए युवा पीढ़ी को प्रेरित किया। राष्ट्र निर्माण में उनका अतुल्य योगदान सभी को स्मरणीय रहेगा।

स्वामी अच्युतानंद तीर्थ ने कहा कि ब्रह्मलीन स्वामी भूमानंद तीर्थ गो, गंगा और गायत्री के प्रबल समर्थक थे। जिन्होंने समाज में फैली कुरीतियों को दूर कर प्रत्येक वर्ग के हित के लिए कार्य किया। ऐसे महापुरुषों के जीवन से प्रेरणा लेकर सभी को समाज कल्याण में अपनी सहभागिता निभानी चाहिए।

भूमा निकेतन आश्रम के प्रबंधक राजेंद्र शर्मा ने ब्रह्मलीन स्वामी भूमानंद तीर्थ को श्रद्धांजलि अर्पित करते हुए कहा कि महापुरुषों का जीवन सदैव समाज हित में समर्पित रहता है। स्वामी सर्वेशानंद, राजेंद्र शर्मा, देवराज तोमर, विजय शर्मा, सुरेश शमा, हरिओम शर्मा आदि मौजूद रहे।



Source link

Continue Reading

Haridwar

Double Engine Government In The State, But Both Failed: Pritam Singh – राज्य में डबल इंजन की सरकार, पर दोनों फेल: प्रीतम सिंह

Published

on

By


Double engine government in the state, but both failed: Pritam Singh

ख़बर सुनें

नेता प्रतिपक्ष प्रीतम सिंह ने कहा कि राज्य में कहने को तो डबल इंजन की सरकार है, मगर सरकार के दोनों इंजन फेल हैं। महंगाई और बेरोजगारी चरम है। कार्यकर्ता एकजुटता के साथ प्रदेश से भाजपा सरकार को उखाड़ने के लिए लगेंगे तो निश्चित रूप से प्रदेश में कांग्रेस की सत्ता में वापसी होगी।
महानगर कांग्रेस कमेटी की ओर से हरिद्वार विधानसभा क्षेत्र के बूथ अध्यक्षों के मेरा बूथ मेरा गौरव प्रशिक्षण शिविर भूपतवाला के श्री गंगा स्वरूप आश्रम में पहुंचे नेता प्रतिपक्ष प्रीतम सिंह ने कहा कि यदि बूथ मजबूत होगा तो पूरे देश में कांग्रेस मजबूती के साथ चुनाव लड़ेगी। जिससे उत्तराखंड के बाद केंद्र में भी कांग्रेस सरकार बनाएगी।
प्रशिक्षण के ट्रेनर विनोद नायर व हरिद्वार से प्रशिक्षण समिति के सदस्य महेश प्रताप राणा ने कहा कि आजादी का आंदोलन, लोकतंत्र, संविधान, औद्योगिकीकरण, बैंकों का राष्ट्रीयकरण, हरित क्रांति, श्वेत क्रांति, सूचना क्रांति, दूरसंचार क्रांति, पंचायती राज, मनरेगा, खाद्य सुरक्षा, किसानों के कर्ज माफ, सूचना का अधिकार दिया, शिक्षा का अधिकार दिया कांग्रेस सरकार ने दिया, परंतु भाजपा सरकारों क्या दिया। 60 साल में कांग्रेस ने देश के लिए जो किया, बस उसे बेचने का कार्य ही केवल भाजपा सरकार कर रही है।
इस मौके पर कांग्रेस कमेटी के प्रदेश महासचिव डा. संजय पालीवाल, महानगर अध्यक्ष संजय अग्रवाल, मेयर प्रतिनिधि अशोक शर्मा, पूर्व विधायक रामयश सिंह, पूर्व नगर पालिका अध्यक्ष सतपाल ब्रह्मचारी, मुरली मनोहर, आलोक शर्मा, मकबूल कुरेशी, चौधरी बलजीत सिंह, मध्य हरिद्वार ब्लॉक अध्यक्ष शैलेंद, कनखल ब्लॉक अध्यक्ष शुभम अग्रवाल आदि मौजूद रहे।

नेता प्रतिपक्ष प्रीतम सिंह ने कहा कि राज्य में कहने को तो डबल इंजन की सरकार है, मगर सरकार के दोनों इंजन फेल हैं। महंगाई और बेरोजगारी चरम है। कार्यकर्ता एकजुटता के साथ प्रदेश से भाजपा सरकार को उखाड़ने के लिए लगेंगे तो निश्चित रूप से प्रदेश में कांग्रेस की सत्ता में वापसी होगी।

महानगर कांग्रेस कमेटी की ओर से हरिद्वार विधानसभा क्षेत्र के बूथ अध्यक्षों के मेरा बूथ मेरा गौरव प्रशिक्षण शिविर भूपतवाला के श्री गंगा स्वरूप आश्रम में पहुंचे नेता प्रतिपक्ष प्रीतम सिंह ने कहा कि यदि बूथ मजबूत होगा तो पूरे देश में कांग्रेस मजबूती के साथ चुनाव लड़ेगी। जिससे उत्तराखंड के बाद केंद्र में भी कांग्रेस सरकार बनाएगी।

प्रशिक्षण के ट्रेनर विनोद नायर व हरिद्वार से प्रशिक्षण समिति के सदस्य महेश प्रताप राणा ने कहा कि आजादी का आंदोलन, लोकतंत्र, संविधान, औद्योगिकीकरण, बैंकों का राष्ट्रीयकरण, हरित क्रांति, श्वेत क्रांति, सूचना क्रांति, दूरसंचार क्रांति, पंचायती राज, मनरेगा, खाद्य सुरक्षा, किसानों के कर्ज माफ, सूचना का अधिकार दिया, शिक्षा का अधिकार दिया कांग्रेस सरकार ने दिया, परंतु भाजपा सरकारों क्या दिया। 60 साल में कांग्रेस ने देश के लिए जो किया, बस उसे बेचने का कार्य ही केवल भाजपा सरकार कर रही है।

इस मौके पर कांग्रेस कमेटी के प्रदेश महासचिव डा. संजय पालीवाल, महानगर अध्यक्ष संजय अग्रवाल, मेयर प्रतिनिधि अशोक शर्मा, पूर्व विधायक रामयश सिंह, पूर्व नगर पालिका अध्यक्ष सतपाल ब्रह्मचारी, मुरली मनोहर, आलोक शर्मा, मकबूल कुरेशी, चौधरी बलजीत सिंह, मध्य हरिद्वार ब्लॉक अध्यक्ष शैलेंद, कनखल ब्लॉक अध्यक्ष शुभम अग्रवाल आदि मौजूद रहे।



Source link

Continue Reading

Trending