Connect with us

Ghaziabad

Ghaziabad News – कोहरे और स्मॉग का असर, लेट होने लगी लंबी दूरी की ट्रेनें

Published

on


ख़बर सुनें

कोहरे और स्मॉग का असर, लेट होने लगी लंबी दूरी की ट्रेनें
गाजियाबाद। कोहरे और स्मॉग का असर ट्रेनों के संचालन पर भी पड़ने लगा है। आसमान में छाई धुंध से दृश्यता कम कम होने लगी तो अब ट्रेनें भी लेट होने लगीं। लंबी दूरी की ट्रेनें 30 मिनट से ढाई घंटे तक लेट हो रही हैं। शनिवार को सद्भावना, कैफियत और फरक्का समेत कई ट्रेनें देरी से गाजियाबाद पहुंचीं।
मौसम में आए परिवर्तन के बाद अब सुबह-शाम कोहरा पड़ने लगा है। इसकी वजह से ट्रेनों की रफ्तार धीमी हो रही है। इसी का असर है कि गंतव्य तक पहुंचने में अब ट्रेनें लेट हो रही हैं। यह हालात तब है जब कोरोना संक्रमण काल में बंद हुई कई ट्रेनें अभी ट्रैक पर नहीं लौटी हैं। अधिकांश लोकल ट्रेनों का संचालन अभी भी बंद है। ट्रैक पर ट्रेनों की संख्या बढ़ी तो रफ्तार और धीमी हो जाएगी। गंतव्य तक देरी से पहुंच रहीं ट्रेनों को समय बदलकर वापस रवाना किया जा रहा है। रेलवे अधिकारियों के मुताबिक शनिवार को आनंद विहार से सुल्तानपुर जाने वाली सद्भावना एक्सप्रेस को 2:30 घंटे की देरी से रवाना किया गया। यह ट्रेन गाजियाबाद स्टेशन पर भी ढाई घंटे की देरी से पहुंची। भागलपुर से आनंद विहार आने वाली ट्रेन भी शनिवार को 3:20 घंटे और आजमगढ़-दिल्ली कैफियत एक्सप्रेस को 25 मिनट की देरी से रवाना किया गया। मालदा टाउन से दिल्ली आने वाली फरक्का एक्सप्रेस शनिवार को करीब 40 मिनट की देरी से गाजियाबाद स्टेशन पहुंची। वहीं मालदा टाउन से रविवार को रवाना की गई फरक्का एक्सप्रेस के समय में भी परिवर्तन कर 1:15 घंटे की देरी से रवाना किया गया।
यात्रियों को हो रही परेशानी
देरी से चलने वाली ट्रेनों की वजह से यात्रियों को परेशानियों का सामना करना पड़ रहा है। लंबी दूरी से आने वाली ट्रेनों का यह अंदाजा लगा पाना मुश्किल हो जाता है कि वह कितनी देरी से पहुंचेंगी। ऐसे में यात्री ट्रेन में सवार होने के लिए निर्धारित समय पर पहुंच जाते हैं, लेकिन उन्हें प्लेटफार्म पर ही लंबा इंतजार करना पड़ता है।

कोहरे और स्मॉग का असर, लेट होने लगी लंबी दूरी की ट्रेनें

गाजियाबाद। कोहरे और स्मॉग का असर ट्रेनों के संचालन पर भी पड़ने लगा है। आसमान में छाई धुंध से दृश्यता कम कम होने लगी तो अब ट्रेनें भी लेट होने लगीं। लंबी दूरी की ट्रेनें 30 मिनट से ढाई घंटे तक लेट हो रही हैं। शनिवार को सद्भावना, कैफियत और फरक्का समेत कई ट्रेनें देरी से गाजियाबाद पहुंचीं।

मौसम में आए परिवर्तन के बाद अब सुबह-शाम कोहरा पड़ने लगा है। इसकी वजह से ट्रेनों की रफ्तार धीमी हो रही है। इसी का असर है कि गंतव्य तक पहुंचने में अब ट्रेनें लेट हो रही हैं। यह हालात तब है जब कोरोना संक्रमण काल में बंद हुई कई ट्रेनें अभी ट्रैक पर नहीं लौटी हैं। अधिकांश लोकल ट्रेनों का संचालन अभी भी बंद है। ट्रैक पर ट्रेनों की संख्या बढ़ी तो रफ्तार और धीमी हो जाएगी। गंतव्य तक देरी से पहुंच रहीं ट्रेनों को समय बदलकर वापस रवाना किया जा रहा है। रेलवे अधिकारियों के मुताबिक शनिवार को आनंद विहार से सुल्तानपुर जाने वाली सद्भावना एक्सप्रेस को 2:30 घंटे की देरी से रवाना किया गया। यह ट्रेन गाजियाबाद स्टेशन पर भी ढाई घंटे की देरी से पहुंची। भागलपुर से आनंद विहार आने वाली ट्रेन भी शनिवार को 3:20 घंटे और आजमगढ़-दिल्ली कैफियत एक्सप्रेस को 25 मिनट की देरी से रवाना किया गया। मालदा टाउन से दिल्ली आने वाली फरक्का एक्सप्रेस शनिवार को करीब 40 मिनट की देरी से गाजियाबाद स्टेशन पहुंची। वहीं मालदा टाउन से रविवार को रवाना की गई फरक्का एक्सप्रेस के समय में भी परिवर्तन कर 1:15 घंटे की देरी से रवाना किया गया।

यात्रियों को हो रही परेशानी

देरी से चलने वाली ट्रेनों की वजह से यात्रियों को परेशानियों का सामना करना पड़ रहा है। लंबी दूरी से आने वाली ट्रेनों का यह अंदाजा लगा पाना मुश्किल हो जाता है कि वह कितनी देरी से पहुंचेंगी। ऐसे में यात्री ट्रेन में सवार होने के लिए निर्धारित समय पर पहुंच जाते हैं, लेकिन उन्हें प्लेटफार्म पर ही लंबा इंतजार करना पड़ता है।



Source link

Continue Reading
Click to comment

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

Ghaziabad

Ghaziyabad – दिल्ली-सहारनपुर रोड पर 4 घंटे बैठे किसान

Published

on

By


ख़बर सुनें

दिल्ली-सहारनपुर रोड
पर 4 घंटे बैठे किसान
लोनी। आवास विकास परिषद (आविप) के खिलाफ बढ़े मुआवजे की मांग कर रहे मंडोला समेत 6 गांवों के किसान बृहस्पतिवार को दिल्ली-सहारनपुर रोड पर बैठ गए। किसान भाजपा के जनप्रतिनिधियों को मौके पर बुलाने और शासन से वार्ता करने की मांग करने लगे। किसानों ने चार घंटे तक एक लेन बंद रखी। अधिकारियों ने वार्ता का आश्वासन देकर किसानों को सड़क से हटाया।
किसान दोपहर एक बजे धरने पर बैठ और शाम पांच बजे उठे। किसान लोनी से बागपत जाने वाले रूट पर बैठे थे, ऐसे में दूसरी लेन में ही वाहनों की आवाजाही रही। दो दिसंबर 2016 को मंडोला गांव में आविप के खिलाफ बढ़े मुआवजे की मांग को लेकर किसान आंदोलन की शुरूआत हुई थी। किसान नेता नीरज त्यागी ने बताया कि उस समय सपा की सरकार थी तब भाजपा के नेता और जनप्रतिनिधि किसानों से मिलने मंडोला आए थे। इन लोगों ने किसानों की आवाज उठाने की भी बात कही थी। भाजपा की सरकार बनने पर मुद्दे का हल निकालने की बात कहीं थी। अब कोई नेता यहां नहीं आता है। बृहस्पतिवार को आंदोलन को पांच साल पूरे होने और मांगे पूरी न होने पर किसानों दिल्ली-सहारनपुर रोड की एक लेन बंद कर दी। एसडीएम संतोष कुमार राय, तहसीलदार शिव नरेश सिंह, एसपी देहात डॉ. इरज राजा ने किसानों को समझाने का प्रयास किया, लेकिन किसान अपनी मांग पर अड़े रहे।
विस चुनाव में भाजपा का करेंगे विरोध
किसानों ने कहा कि पहले सपा की सरकार में भाजपा ने किसानों के आंदोलन की शुरूआत कराई थी। अब किसान इस विधानसभा चुनाव में भाजपा प्रत्याशी का विरोध करेंगे। नीरज त्यागी ने बताया कि वह पहले भाजपा के पदाधिकारी थे, लेकिन पार्टी ने किसानों की पीड़ा को नहीं समझा। इसलिए उन्होंने पार्टी छोड़ दी।
पांच साल में 12 किसानों की मौत
किसानों का कहना है कि मांगों को लेकर किसानों ने सिर मुड़ाकर, मानव श्रृखंला बनाकर विरोध किया। आमरण अनशन, समाधि, घुटने के बल पर जाकर प्रधानमंत्री को ज्ञापन तक दिया। इसके बावजूद नेता अपने वादे भूल गए। किसानों ने बताया कि पिछले पांच वर्ष में आंदोलन से जुड़े 12 किसानों की मौत हो चुकी है।
किसानों ने खाई पुलिस की लाठियां
शासन द्वारा बनाई गई कमेटी से वार्ता नहीं होने पर किसानों ने मंडोला में हो रहे आविप के कार्यों को रोका था। दो जून 2017 को किसानों द्वारा काम रोके जाने पर प्रशासन के आदेश के बाद पुलिस ने लाठी चार्ज किया था। कई किसान घायल हुए थे।

दिल्ली-सहारनपुर रोड

पर 4 घंटे बैठे किसान

लोनी। आवास विकास परिषद (आविप) के खिलाफ बढ़े मुआवजे की मांग कर रहे मंडोला समेत 6 गांवों के किसान बृहस्पतिवार को दिल्ली-सहारनपुर रोड पर बैठ गए। किसान भाजपा के जनप्रतिनिधियों को मौके पर बुलाने और शासन से वार्ता करने की मांग करने लगे। किसानों ने चार घंटे तक एक लेन बंद रखी। अधिकारियों ने वार्ता का आश्वासन देकर किसानों को सड़क से हटाया।

किसान दोपहर एक बजे धरने पर बैठ और शाम पांच बजे उठे। किसान लोनी से बागपत जाने वाले रूट पर बैठे थे, ऐसे में दूसरी लेन में ही वाहनों की आवाजाही रही। दो दिसंबर 2016 को मंडोला गांव में आविप के खिलाफ बढ़े मुआवजे की मांग को लेकर किसान आंदोलन की शुरूआत हुई थी। किसान नेता नीरज त्यागी ने बताया कि उस समय सपा की सरकार थी तब भाजपा के नेता और जनप्रतिनिधि किसानों से मिलने मंडोला आए थे। इन लोगों ने किसानों की आवाज उठाने की भी बात कही थी। भाजपा की सरकार बनने पर मुद्दे का हल निकालने की बात कहीं थी। अब कोई नेता यहां नहीं आता है। बृहस्पतिवार को आंदोलन को पांच साल पूरे होने और मांगे पूरी न होने पर किसानों दिल्ली-सहारनपुर रोड की एक लेन बंद कर दी। एसडीएम संतोष कुमार राय, तहसीलदार शिव नरेश सिंह, एसपी देहात डॉ. इरज राजा ने किसानों को समझाने का प्रयास किया, लेकिन किसान अपनी मांग पर अड़े रहे।

विस चुनाव में भाजपा का करेंगे विरोध

किसानों ने कहा कि पहले सपा की सरकार में भाजपा ने किसानों के आंदोलन की शुरूआत कराई थी। अब किसान इस विधानसभा चुनाव में भाजपा प्रत्याशी का विरोध करेंगे। नीरज त्यागी ने बताया कि वह पहले भाजपा के पदाधिकारी थे, लेकिन पार्टी ने किसानों की पीड़ा को नहीं समझा। इसलिए उन्होंने पार्टी छोड़ दी।

पांच साल में 12 किसानों की मौत

किसानों का कहना है कि मांगों को लेकर किसानों ने सिर मुड़ाकर, मानव श्रृखंला बनाकर विरोध किया। आमरण अनशन, समाधि, घुटने के बल पर जाकर प्रधानमंत्री को ज्ञापन तक दिया। इसके बावजूद नेता अपने वादे भूल गए। किसानों ने बताया कि पिछले पांच वर्ष में आंदोलन से जुड़े 12 किसानों की मौत हो चुकी है।

किसानों ने खाई पुलिस की लाठियां

शासन द्वारा बनाई गई कमेटी से वार्ता नहीं होने पर किसानों ने मंडोला में हो रहे आविप के कार्यों को रोका था। दो जून 2017 को किसानों द्वारा काम रोके जाने पर प्रशासन के आदेश के बाद पुलिस ने लाठी चार्ज किया था। कई किसान घायल हुए थे।



Source link

Continue Reading

Ghaziabad

Ghaziabad Police Atm Hacking Gang Caught 250 Atms Were Hacked And 30 Crores Stolen In 12 Years – खुलासा: 12 साल में 250 एटीएम हैक कर 30 करोड़ चुराने वाला गैंग बेनकाब, पांच सदस्य गिरफ्तार

Published

on

By


सार

गाजियाबाद के इंदिरापुरम और साइबर सेल टीम ने एटीएम हैकर पैसे चोरी करने वाले गिरोह के पांच शातिरों को पकड़ा है। साइबर सेल के नोडल अधिकारी अभय मिश्रा का कहना है कि गिरोह का सरगना शाहनवाज निवासी बिहार, सगीर निवासी मंडोली दिल्ली, मेहराज निवासी मुस्तफाबाद दिल्ली, मोहम्मद उमर निवासी गोकुल पुरी दिल्ली, और जमीर शेख निवासी प्रेम नगर मुंबई को गिरफ्तार किया है

एटीएम हैक कर 30 करोड़ चुराने वाला गैंग बेनकाब
– फोटो : अमर उजाला

ख़बर सुनें

गाजियाबाद के इंदिरापुरम में साइबर सेल ने सॉफ्टवेयर से एटीएम हैक कर कैश चुराने वाले गिरोह का पर्दाफाश कर पांच आरोपियों को मंगल बाजार चौक से गिरफ्तार कर लिया। गिरोह 12 साल में 8 राज्यों के 250 एटीएम हैक कर करीब 30 करोड़ रुपये चोरी कर चुका है। 

हैदराबाद में बैठा कमल गैंग का सरगना है, जिसकी गिरफ्तारी के लिए वहां की पुलिस से संपर्क किया। कमल के अलावा गैंग में शामिल शहजाद, जैद व वाजिद अभी फरार हैं। 13 जुलाई को न्यायखंड-1 में गौर ग्रीन विस्टा के पास एक्सिस बैंक के एटीएम को हैक करके करीब सात लाख रुपये निकाल लिए गए थे। इस मामले की जांच के दौरान आरोपियों का सुराग लगा।

गिरफ्तार आरोपी व उनकी भूमिका
शाहनवाज : किशनगंज बिहार निवासी बीसीए पास शाहनवाज सरगना कमल के साथ मिलकर एटीएम हैक करने के लिए कोडिंग उपलब्ध कराता था। वह उत्तराखंड रुड़की से 2009 में जेल जा चुका है। 

सगीर : दिल्ली के मंडोली निवासी पांचवीं पास सगीर वारदात के लिए चोरी की गाड़ियां उपलब्ध कराता है। गाड़ी की फर्जी आरसी बनाता है। 

मेहराज : दिल्ली के मुस्तफाबाद निवासी बीसीए पास मेहराज का काम एटीएम में घुसकर सॉफ्टवेयर अपलोड कर मशीन से पैसे निकालना। 
मोहम्मद उमर : दिल्ली के गोकलपुरी निवासी 10वीं पास मोहम्मद उमर वारदात के दौरान गाड़ी चलाता था। एटीएम हैकिंग के दौरान बाहर खड़ा होकर निगरानी करता था। 

जमीर शेख : प्रेमनगर वर्ली मुंबई निवासी 11वीं पास जमीर शेख साइबर ठग है। 2009  से ऑनलाइन हैकिंग सीखकर कमल के साथ मिलकर एटीएम हैकिंग के लिए सॉफ्टवेयर व कोड उपलब्ध कराता था।
10 मोबाइल, एक सिम कार्ड, टाटा सफारी, फोर्ड इको स्पोर्ट, बुलेट, 16 एटीएम कार्ड, लैपटॉप-चार्जर, मुहर, पैनड्राइव, मैमोरी कार्ड, चार कार्ड रीडर, दो एनआरएफ, दो हार्ड डिस्क, दो रैम, वाईफाई की-बोर्ड, एटीएम स्कीमर, दो यूएसबी हब, दो यूएसबी, एक पी-1 डिस्प्ले सीडी ड्राइवर और एक हार्डडिस्क केबल बरामद हुई है।

2016 में जेल से छूटकर फिर सक्रिय हो गया गिरोह
साइबर सेल के नोडल अधिकारी और सीओ इंदिरापुरम अभय मिश्र ने बताया कि 2009 से सक्रिय गैंग दिल्ली, राजस्थान, पंजाब, मध्य प्रदेश, पश्चिम बंगाल के अलावा उत्तर प्रदेश के गाजियाबाद, मेरठ, मुजफ्फरनगर, मुरादाबाद, आगरा, कानपुर और मथुरा में करीब 250 वारदात कर चुका है। गाजियाबाद के नंदग्राम, इंदिरापुरम, विजयनगर, मोदीनगर और टीला मोड़ में हुई वारदातें इसी गैंग ने की थीं।

2015 में आरोपी रुड़की से जेल गए। 2016 में जेल से छूटकर फिर से वारदात शुरू कर दीं। घटना के दौरान आरोपी पुलिस की लोकेशन में न आएं, इसके लिए वह अपने फोन को ऑफलाइन मोड पर लगा देते थे। एटीएम की सीसीटीवी फुटेज से आरोपियों का सुराग लगा।
– एटीएम हैक करने के लिए आरोपी एक डिवाइस इस्तेमाल करते थे, जिसमें सॉफ्टवेयर और एंटी वायरस से लैस पैनड्राइव, ब्लूटूथ की-बोर्ड और एटीएम खोलने की चाबी रहती थी।
– आमतौर पर फ्रिज वाली चाबी से एटीएम का लॉक खुल जाता था, लेकिन जहां लॉक नहीं खुल पाता था, वहां आरोपी लॉक तोड़ देते थे।
– लॉक खुलने पर एटीएम में पैनड्राइव लगाकर उसकी विंडो करप्ट करते थे। उसके बाद उसमें अपना सॉफ्टवेयर अपलोड करते थे। ऐसा करते ही मशीन का नियंत्रण उनके हाथ में आ जाता था।
– यहां ब्लूटूथ की-बोर्ड का इस्तेमाल कर आरोपी क्यू आर कोड जनरेट करते थे। उसे हैदराबाद में बैठे सरगना कमल को भेजते थे। इसके बाद सरगना कमल क्यूआर कोर्ड के हिसाब से कुछ अंक बताया था, जिससे मशीन ऑपरेट होने लगती थी।
– एक कमांड देने पर एटीएम से 40 नोट निकलते थे। यह नोट 100, 500 और 2000 में से कोई भी हो सकते हैं।

नाइजीरियन गैंग से खरीदते थे सिम, ब्लॉक एटीएम कार्ड
गैंग के सदस्य साइबर ठगी करने वाले नाइजीरियन गैंग के संपर्क में भी थे। वह उनसे 2000 रुपये में फर्जी आईडी पर सिम और 1000 रुपये में ब्लॉक एटीएम खरीदते थे। एटीएम मशीन हैक करने के दौरान पुलिस के आने पर आरोपी ब्लॉक एटीएम दिखा देते थे कि मशीन काम नहीं कर रही है।

विस्तार

गाजियाबाद के इंदिरापुरम में साइबर सेल ने सॉफ्टवेयर से एटीएम हैक कर कैश चुराने वाले गिरोह का पर्दाफाश कर पांच आरोपियों को मंगल बाजार चौक से गिरफ्तार कर लिया। गिरोह 12 साल में 8 राज्यों के 250 एटीएम हैक कर करीब 30 करोड़ रुपये चोरी कर चुका है। 

हैदराबाद में बैठा कमल गैंग का सरगना है, जिसकी गिरफ्तारी के लिए वहां की पुलिस से संपर्क किया। कमल के अलावा गैंग में शामिल शहजाद, जैद व वाजिद अभी फरार हैं। 13 जुलाई को न्यायखंड-1 में गौर ग्रीन विस्टा के पास एक्सिस बैंक के एटीएम को हैक करके करीब सात लाख रुपये निकाल लिए गए थे। इस मामले की जांच के दौरान आरोपियों का सुराग लगा।

गिरफ्तार आरोपी व उनकी भूमिका

शाहनवाज : किशनगंज बिहार निवासी बीसीए पास शाहनवाज सरगना कमल के साथ मिलकर एटीएम हैक करने के लिए कोडिंग उपलब्ध कराता था। वह उत्तराखंड रुड़की से 2009 में जेल जा चुका है। 

सगीर : दिल्ली के मंडोली निवासी पांचवीं पास सगीर वारदात के लिए चोरी की गाड़ियां उपलब्ध कराता है। गाड़ी की फर्जी आरसी बनाता है। 

मेहराज : दिल्ली के मुस्तफाबाद निवासी बीसीए पास मेहराज का काम एटीएम में घुसकर सॉफ्टवेयर अपलोड कर मशीन से पैसे निकालना। 

मोहम्मद उमर : दिल्ली के गोकलपुरी निवासी 10वीं पास मोहम्मद उमर वारदात के दौरान गाड़ी चलाता था। एटीएम हैकिंग के दौरान बाहर खड़ा होकर निगरानी करता था। 

जमीर शेख : प्रेमनगर वर्ली मुंबई निवासी 11वीं पास जमीर शेख साइबर ठग है। 2009  से ऑनलाइन हैकिंग सीखकर कमल के साथ मिलकर एटीएम हैकिंग के लिए सॉफ्टवेयर व कोड उपलब्ध कराता था।



Source link

Continue Reading

Ghaziabad

Bulandshahar High Profile Sex Racket Busted News: Highprofile Brotheln Racket Exposed In Bulandshahar Fir On 11 – Bulandshahar Sex Racket: होटल के कमरों में युवतियों को अंतरंग देख पुलिस की भी झुक गई शर्म से आंखें

Published

on

By


Bulandshahar Sex Racket
– फोटो : अमर उजाला

बुलंदशहर जिले के अनूपशहर में एक होटल में पुलिस ने शुक्रवार को चार युवक और चार युवतियों को आपत्तिजनक हालत में पकड़ा। इस दौरान होटल के मैनेजर और कैशियर को भी हिरासत में ले लिया। मामले में सीओ ने 11 लोगों के खिलाफ अनूपशहर कोतवाली में देह व्यापार की धाराओं में रिपोर्ट दर्ज कराई है। बाद में युवक-युवतियों, होटल के मैनेजर और कैशियर को हिदायत देकर जमानत पर छोड़ दिया। वहीं, संचालक की तलाश में पुलिस दबिश दे रही है। सीओ अनूपशहर रमेशचंद त्रिपाठी ने बताया किकस्बा स्थित एक मकान को विनीत कुमार नामक व्यक्ति ने किराए पर लिया था। जिसमें उसने एक होटल बना दिया। मकान के मालिक ने वहां गलत कार्य होने की सूचना दी थी। इस पर पुलिस ने दबिश दी, जहां से अलग-अलग कमरों से पुलिस टीम ने चार युवक और चार युवतियों को आपत्तिजनक स्थिति में पकड़ा। इसके बाद सभी की तलाशी आदि लेने के बाद थाने लाया गया। मामले में पुलिस ने शिव प्रकाश दीक्षित, विवेक वाल्मिकी, राजकुमार, मोहित, रामदेव मीणा, विपिन, रिजवान, विनित समेत तीन युवतियों के खिलाफ रिपोट दर्ज की है। जांच अधिकारी सीओ डिबाई वंदना शर्मा ने बताया कि प्रकरण की जांच शुरू कर दी गई है।

फाइल फोटो

पैसों की लेनदेन की बात से गहराया शक

सीओ अनूपशहर ने दर्ज कराई रिपोर्ट में बताया कि होटल में तलाशी के दौरान कमरे में युवक-युवतियों के बीच रुपयों की लेनदेन को लेकर बातचीत की जा रही थी। इसके बाद कमरा खेलकर अंदर जाने पर वह आपत्तिजनक हालत में मिले, जिस पर शक और गहरा गया।

 

फाइल फोटो
– फोटो : अमर उजाला

युवतियों को परिजनों की सुपुर्दगी में दिया

एसएसपी ने बताया कि प्रकरण की जांच में सामने आया है कि पकड़े गए लोग प्रेमी प्रेमिका और जिनकी शादी तय हो चुकी है, वे लोग हैं। इनको भी चार्जशीट में शामिल किया जाएगा। साथ ही इन्हें कोर्ट में बयान के लिए बुलाया जाएगा। फिलहाल परिजनों को बुलाकर उनके सुपुर्द कर दिया गया है।

 

sex racket
– फोटो : अमर उजाला

देह व्यापार की सूचना पर पुलिस मौके पर गई थी। प्रथम सूचना के आधार पर रिपोर्ट दर्ज की गई है। प्रकरण की जांच सीओ डिबाई को सौंपी गई है। जांच रिपोर्ट मिलने के बाद कार्रवाई की जाएगी। वहीं, होटल संचालक की तलाश की जा रही है। जल्द ही उसे गिरफ्तार कर लिया जाएगा।

– संतोष कुमार सिंह, एसएसपी

 

फाइल फोटो
– फोटो : अमर उजाला

देह व्यापार प्रकरण: चौकी इंचार्ज लाइन हाजिर, दो सिपाही निलंबित

वहीं, एक होटल में देह व्यापार होने के मामले में कस्बा चौकी इंचार्ज को लाइन हाजिर कर दिया गया है। साथ ही दो सिपाहियों की संलिप्तता पाए जाने पर उन पर निलंबन की कार्रवाई की गई है। एसएसपी ने अनूपशहर सीओ से प्रकरण की जांच कराई। जांच रिपोर्ट में थाने पर तैनात आरक्षी विनीत गिरी और आरक्षी रविकांत दोषी पाए गए। इस पर एसएसपी ने आरक्षी विनीत गिरी और आरक्षी रविकांत को तत्काल प्रभाव से निलंबित कर दिया है। 

 



Source link

Continue Reading

Trending