Connect with us

Jhansi

Special Train From Gorakhpur To Goa And Hyderabad – गोरखपुर से मडगांव व हैदराबाद के लिए स्पेशल ट्रेन

Published

on


Special train from Gorakhpur to Goa and Hyderabad

ख़बर सुनें

झांसी। छठ पूजा के बाद पूर्वांचल से बड़ी संख्या में लौट रहे यात्रियों की सुविधा के लिए गोरखपुर से मडगांव व हैदराबाद के लिए स्पेशल ट्रेन का संचालन किया जा रहा है।
इनमें 05029 गोरखपुर मडगांव एक्सप्रेस 27 नवंबर शनिवार को गोरखपुर से सुबह 8.45 बजे चलेगी। इस ट्रेन को खलीलाबाद, बस्ती, गोंडा, ऐशबाग, कानपुर सेंट्रल, झांसी, भोपाल, इटारसी, खंडवा, भुसावल, मनमाड, कल्याण, पनवेल, रोहा, रत्नागिरी व करमली स्टेशन पर ठहराव दिया गया है। इस ट्रेन में 15 स्लीपर कोच लगेंगे। पेंट्रीकार की सुविधा रहेगी। इसी तरह 07745 हैदराबाद डेकेन गोरखपुर एक्सप्रेस 25 नवंबर बृहस्पतिवार को हैदराबाद से रात 9.05 बजे और 07746 गोरखपुर हैदराबाद डेकेन एक्सप्रेस 28 नवंबर रविवार को गोरखपुर से सुबह 8.30 बजे चलेगी। इस ट्रेन को सिकंदराबाद, काजीपेट, पेद्दापल्ली, मचिरयाल, बल्हारशाह, नागपुर, इटारसी, भोपाल, झांसी, कानपुर वाया ऐशबाग, लखनऊ सिटी, बाराबंकी व गोंडा स्टेशन पर ठहराव दिया गया है। इस ट्रेन में छह जनरल, 12 स्लीपर, तीन थर्ड एसी व एक सेकेंड एसी कोच लगेगा।
आगरा मथुरा रेल खंड में रोकी जाएगी ट्रेनें
झांसी। मथुरा पलवल रेल खंड के अझई स्टेशन पर नॉन इंटरलॉकिंग काम होना है। इसके चलते 02625 केरला एक्सप्रेस 25 व 26 नवंबर को 120 मिनट के लिए आगरा कैंट मथुरा खंड के बीच, 12617 मंगला एक्सप्रेस 25 व 26 नवंबर को 115 मिनट के लिए आगरा कैंट भूतेश्वर खंड व 12903 मुंबई सेंट्रल अमृतसर 26 नवंबर व 27 नवंबर को मथुरा स्टेशन पर 70 मिनट के लिए रोकी जाएगी। इसी तरह 11078 जम्मूतवी पुणे झेलम एक्सप्रेस 27 नवंबर को कोसीकलां अझ़ई खंड में 10 मिनट और 14624 फिरोजपुर कैंट छिंदवाड़ा एक्सप्रेस 28 नवंबर को दस मिनट के लिए छाता अझई खंड में रोकी जाएगी। वहीं,18477 पुरी योग नगरी ऋषिकेश उत्कल एक्सप्रेस 26 नवंबर को आगरा कैंट-पलवल-निजामुद्दीन- मेरठ सिटी के स्थान पर आगरा कैंट- मितावली- खुर्जा-हापुड़- मेरठ सिटी के रास्ते चलेगी।
निरस्त रही निजामुद्दीन तिरुपति एक्सप्रेस
झांसी। आंध्र प्रदेश में हो रही लगातार बारिश के चलते दो दिन पहले तिरुपति निजामुद्दीन एक्सप्रेस को निरस्त कर दिया गया था। इसके चलते यह रैक निजामुद्दीन नहीं पहुंच सका। इस कारण बुधवार को 12708 निजामुद्दीन तिरुपति एक्सप्रेस को निरस्त कर दिया गया। इस ट्रेन से आंध्र प्रदेश की तरफ जाने वाले यात्रियों को अपने आरक्षण निरस्त कराने पड़े।

झांसी। छठ पूजा के बाद पूर्वांचल से बड़ी संख्या में लौट रहे यात्रियों की सुविधा के लिए गोरखपुर से मडगांव व हैदराबाद के लिए स्पेशल ट्रेन का संचालन किया जा रहा है।

इनमें 05029 गोरखपुर मडगांव एक्सप्रेस 27 नवंबर शनिवार को गोरखपुर से सुबह 8.45 बजे चलेगी। इस ट्रेन को खलीलाबाद, बस्ती, गोंडा, ऐशबाग, कानपुर सेंट्रल, झांसी, भोपाल, इटारसी, खंडवा, भुसावल, मनमाड, कल्याण, पनवेल, रोहा, रत्नागिरी व करमली स्टेशन पर ठहराव दिया गया है। इस ट्रेन में 15 स्लीपर कोच लगेंगे। पेंट्रीकार की सुविधा रहेगी। इसी तरह 07745 हैदराबाद डेकेन गोरखपुर एक्सप्रेस 25 नवंबर बृहस्पतिवार को हैदराबाद से रात 9.05 बजे और 07746 गोरखपुर हैदराबाद डेकेन एक्सप्रेस 28 नवंबर रविवार को गोरखपुर से सुबह 8.30 बजे चलेगी। इस ट्रेन को सिकंदराबाद, काजीपेट, पेद्दापल्ली, मचिरयाल, बल्हारशाह, नागपुर, इटारसी, भोपाल, झांसी, कानपुर वाया ऐशबाग, लखनऊ सिटी, बाराबंकी व गोंडा स्टेशन पर ठहराव दिया गया है। इस ट्रेन में छह जनरल, 12 स्लीपर, तीन थर्ड एसी व एक सेकेंड एसी कोच लगेगा।

आगरा मथुरा रेल खंड में रोकी जाएगी ट्रेनें

झांसी। मथुरा पलवल रेल खंड के अझई स्टेशन पर नॉन इंटरलॉकिंग काम होना है। इसके चलते 02625 केरला एक्सप्रेस 25 व 26 नवंबर को 120 मिनट के लिए आगरा कैंट मथुरा खंड के बीच, 12617 मंगला एक्सप्रेस 25 व 26 नवंबर को 115 मिनट के लिए आगरा कैंट भूतेश्वर खंड व 12903 मुंबई सेंट्रल अमृतसर 26 नवंबर व 27 नवंबर को मथुरा स्टेशन पर 70 मिनट के लिए रोकी जाएगी। इसी तरह 11078 जम्मूतवी पुणे झेलम एक्सप्रेस 27 नवंबर को कोसीकलां अझ़ई खंड में 10 मिनट और 14624 फिरोजपुर कैंट छिंदवाड़ा एक्सप्रेस 28 नवंबर को दस मिनट के लिए छाता अझई खंड में रोकी जाएगी। वहीं,18477 पुरी योग नगरी ऋषिकेश उत्कल एक्सप्रेस 26 नवंबर को आगरा कैंट-पलवल-निजामुद्दीन- मेरठ सिटी के स्थान पर आगरा कैंट- मितावली- खुर्जा-हापुड़- मेरठ सिटी के रास्ते चलेगी।

निरस्त रही निजामुद्दीन तिरुपति एक्सप्रेस

झांसी। आंध्र प्रदेश में हो रही लगातार बारिश के चलते दो दिन पहले तिरुपति निजामुद्दीन एक्सप्रेस को निरस्त कर दिया गया था। इसके चलते यह रैक निजामुद्दीन नहीं पहुंच सका। इस कारण बुधवार को 12708 निजामुद्दीन तिरुपति एक्सप्रेस को निरस्त कर दिया गया। इस ट्रेन से आंध्र प्रदेश की तरफ जाने वाले यात्रियों को अपने आरक्षण निरस्त कराने पड़े।



Source link

Continue Reading
Click to comment

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

Jhansi

Jhansi: Attack Of Sp President Akhilesh – Up Government Gets Maximum Notice On Fake Encounter – झांसी: सपा अध्यक्ष अखिलेश का हमला- फर्जी एनकाउंटर पर सबसे ज्यादा नोटिस यूपी सरकार को मिले

Published

on

By


एएनआई, झांसी
Published by: अनुराग सक्सेना
Updated Fri, 03 Dec 2021 11:32 AM IST

झांसी में सपा प्रमुख अखिलेश यादव
– फोटो : ANI

ख़बर सुनें

यूपी विधानसभा चुनाव से पहले अपना विजय यात्रा लेकर गुरुवार को झांसी पहुंचे पूर्व मुख्यमंत्री और सपा अध्यक्ष अखिलेश यादव ने शुक्रवार को कहा कि फर्जी एनकाउंटर के मामले में देश में सबसे ज्यादा नोटिस उत्तर प्रदेश सरकार को मिले हैं।

सपा अध्यक्ष ने कहा कि भारत सरकार के आंकड़ों में कम से कम यह बताना चाहिए कि भारत में महिलाओं और बेटियों पर सबसे ज्यादा अन्याय यूपी में है। फर्जी एनकाउंटर में भी सबसे ज्यादा नोटिस यूपी सरकार को मिले हैं। उन्होंने कहा कि बुंदेलखंड में भाजपा के लिए दरवाजे बंद हो गए हैं। यहां की जनता भाजपा को जीरो पर लाएगी।

उन्होंने कहा  कि बुंदेलखंड में चल रहे विकास कार्य इस सरकार में रोक दिए गए हैं। यहां के लोगों का कोई ध्यान नहीं रखा गया।

यूपी विधानसभा चुनाव से पहले अपना विजय यात्रा लेकर गुरुवार को झांसी पहुंचे पूर्व मुख्यमंत्री और सपा अध्यक्ष अखिलेश यादव ने शुक्रवार को कहा कि फर्जी एनकाउंटर के मामले में देश में सबसे ज्यादा नोटिस उत्तर प्रदेश सरकार को मिले हैं।

सपा अध्यक्ष ने कहा कि भारत सरकार के आंकड़ों में कम से कम यह बताना चाहिए कि भारत में महिलाओं और बेटियों पर सबसे ज्यादा अन्याय यूपी में है। फर्जी एनकाउंटर में भी सबसे ज्यादा नोटिस यूपी सरकार को मिले हैं। उन्होंने कहा कि बुंदेलखंड में भाजपा के लिए दरवाजे बंद हो गए हैं। यहां की जनता भाजपा को जीरो पर लाएगी।

उन्होंने कहा  कि बुंदेलखंड में चल रहे विकास कार्य इस सरकार में रोक दिए गए हैं। यहां के लोगों का कोई ध्यान नहीं रखा गया।



Source link

Continue Reading

Jhansi

Grand Welcome Of Victory Lamp, Slogans Of Bharat Mata Ki Jai Echoed – विक्ट्री लैंप का हुआ भव्य स्वागत, गूंजे भारत माता की जय के नारे

Published

on

By


Grand welcome of Victory Lamp, slogans of Bharat Mata Ki Jai echoed

ख़बर सुनें

झांसी। महारानी लक्ष्मीबाई मेडिकल कॉलेज में स्वर्णिम विजय वर्ष के उपलक्ष्य में विक्ट्री लैंप मंगलवार को मेडिकल कॉलेज पहुंची। मशाल को भारतीय सेना के कैप्टन लाल रैम डेका ने प्राचार्य को सौंपा। इस दौरान भारत माता की जय के नारे गूंजते रहे। ये मशाल 1971 युद्ध में भारत की पाकिस्तान पर ऐतिहासिक जीत के 50 साल पूरे होने पर देश के हर हिस्से से गुजारी जा रही है।
कैप्टन लाल रैम डेका ने बताया कि यह स्वर्णिम विजय मशाल 16 दिसंबर 2020 को दिल्ली से रवाना हुई थी। देश के हर कोने से होती हुई 16 दिसंबर 2021 को वापस दिल्ली पहुंचेगी। लेफ्टिनेंट कर्नल चंद्रेश चौधरी ने भारत-पाक युद्ध की जीत के स्वर्णिम विजय वर्ष के बारे में बताया। प्राचार्य डॉ. एनएस सेंगर ने कहा कि वीर सैनिकों का योगदान कभी भुलाया नहीं जा सकता। उन्होंने कहा कि कोरोना महामारी में डॉक्टरों ने भी सफेद वर्दी में दुश्मन को हराने का काम किया है। डॉ. सुधीर कुमार ने कहा कि इस पावन ज्योति के दर्शन होना सौभाग्य की बात है। ये प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी की दूरदर्शिता, ऊंची सोच का परिणाम है। उप प्राचार्य डॉ. अंशुल जैन ने कहा कि सन् 1971 के बाद दुनिया को मालूम पड़ गया कि भारत कितना सशक्त राष्ट्र है। एमबीबीएस के छात्रों अनन्या मिश्रा, शालिनी, करन द्वारा देशभक्ति गीत, शालिनी दिवाकर, आस्था वर्मा, संजना गोयल, वैष्णवी द्विवेदी ने नृत्य प्रस्तुत किया। संचालन डॉ. पल्लवी अग्रवाल ने किया। आभार डॉ. ओमशंकर चौरसिया ने जताया। इस दौरान मेजर जनरल सुनील कुमार, डॉ. साधना कौशिक, एसआईसी डॉ. सुनीता भदौरिया, सीएमएस डॉ. हरीशचंद्र आर्या, डॉ. सुशीला खर्कवाल, डॉ. नूतन अग्रवाल, डॉ. मयंक सिंह, डॉ. रेनू सहाय, डॉ. पारस गुप्ता, डॉ. मधुर्मय शास्त्री, डॉ. रजनी गौतम, डॉ. अनुज सेठी, डॉ. अरविंद कनकने, डॉ. सपना गुप्ता, डॉ. विमल आर्या, डॉ. शोभा चतुर्वेदी, डॉ. राजकमल, डॉ. कुलदीप चंदेल, मेट्रन रानी वर्मा, नलिनी सूद मौजूद रहे।

झांसी। महारानी लक्ष्मीबाई मेडिकल कॉलेज में स्वर्णिम विजय वर्ष के उपलक्ष्य में विक्ट्री लैंप मंगलवार को मेडिकल कॉलेज पहुंची। मशाल को भारतीय सेना के कैप्टन लाल रैम डेका ने प्राचार्य को सौंपा। इस दौरान भारत माता की जय के नारे गूंजते रहे। ये मशाल 1971 युद्ध में भारत की पाकिस्तान पर ऐतिहासिक जीत के 50 साल पूरे होने पर देश के हर हिस्से से गुजारी जा रही है।

कैप्टन लाल रैम डेका ने बताया कि यह स्वर्णिम विजय मशाल 16 दिसंबर 2020 को दिल्ली से रवाना हुई थी। देश के हर कोने से होती हुई 16 दिसंबर 2021 को वापस दिल्ली पहुंचेगी। लेफ्टिनेंट कर्नल चंद्रेश चौधरी ने भारत-पाक युद्ध की जीत के स्वर्णिम विजय वर्ष के बारे में बताया। प्राचार्य डॉ. एनएस सेंगर ने कहा कि वीर सैनिकों का योगदान कभी भुलाया नहीं जा सकता। उन्होंने कहा कि कोरोना महामारी में डॉक्टरों ने भी सफेद वर्दी में दुश्मन को हराने का काम किया है। डॉ. सुधीर कुमार ने कहा कि इस पावन ज्योति के दर्शन होना सौभाग्य की बात है। ये प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी की दूरदर्शिता, ऊंची सोच का परिणाम है। उप प्राचार्य डॉ. अंशुल जैन ने कहा कि सन् 1971 के बाद दुनिया को मालूम पड़ गया कि भारत कितना सशक्त राष्ट्र है। एमबीबीएस के छात्रों अनन्या मिश्रा, शालिनी, करन द्वारा देशभक्ति गीत, शालिनी दिवाकर, आस्था वर्मा, संजना गोयल, वैष्णवी द्विवेदी ने नृत्य प्रस्तुत किया। संचालन डॉ. पल्लवी अग्रवाल ने किया। आभार डॉ. ओमशंकर चौरसिया ने जताया। इस दौरान मेजर जनरल सुनील कुमार, डॉ. साधना कौशिक, एसआईसी डॉ. सुनीता भदौरिया, सीएमएस डॉ. हरीशचंद्र आर्या, डॉ. सुशीला खर्कवाल, डॉ. नूतन अग्रवाल, डॉ. मयंक सिंह, डॉ. रेनू सहाय, डॉ. पारस गुप्ता, डॉ. मधुर्मय शास्त्री, डॉ. रजनी गौतम, डॉ. अनुज सेठी, डॉ. अरविंद कनकने, डॉ. सपना गुप्ता, डॉ. विमल आर्या, डॉ. शोभा चतुर्वेदी, डॉ. राजकमल, डॉ. कुलदीप चंदेल, मेट्रन रानी वर्मा, नलिनी सूद मौजूद रहे।



Source link

Continue Reading

Jhansi

Corona: The Population Of One Million Who Has Not Been Vaccinated In A New Way Is In Danger – कोरोना: नए रूप से वैक्सीन न लगवाने वाली 10 लाख की आबादी खतरे में

Published

on

By


ख़बर सुनें

झांसी। कोरोना के नए स्ट्रेन (रूप) ओमीक्रॉन को लेकर देश-प्रदेश में अलर्ट जारी हो गया है। कई देशों में तेजी से यह लोगों को शिकार बना रही है। झांसी के लिए ये बेहद चिंताजनक बात है, क्योंकि देश में ये आ जाता है तो जिले में काफी तबाही मचा सकता है। इसकी मुख्य वजह एक बड़ी आबादी का टीकाकरण से दूरी बना लेना है। झांसी में लगभग तीन लाख लोगों को पहली और सात लाख को दूसरी डोज नहीं लगी है।
दक्षिण अफ्रीका से होेते हुए ओमीक्रॉन के मामले आसपास के कई देशों में सामने आने लगे है। प्रधानमंत्री समेत देश के कई विशेषज्ञ इसको लेकर चिंतित हैं। झांसी जिले के लिए भी कोरोना का नया रूप बेहद डरावना और चिंताजनक है। कोरोना की दूसरी लहर थम जाने के बाद अब लोग टीकाकरण को लेकर लापरवाही बरतने लगे हैं। वैक्सीनेशन सेंटरों पर जहां पहले लंबी-लंबी लाइनें लगी रहती थीं, वहां अब सन्नाटा पसरा हुआ है। यही नहीं, जिन लोगों ने वैक्सीन की पहली डोज लगवा ली है, उनमें से 17 फीसदी लोगों ने समय पर दूसरी डोज न लगवाकर सुरक्षा कवच तोड़ दिया है। यही नहीं, 25 फीसदी लोगों का दूसरी डोज लगवाने का समय भी आ गया है, वो भी टीकाकरण केंद्र पर नहीं पहुंच रहे हैं। ऐसे में लगभग सात लाख लोगों को कोरोना की दूसरी डोज नहीं लग सकी है। इसमें तीन लाख ऐसे लोग हैं, जिन्हें एक भी डोज नहीं लग पाई है।
चार से फिसलकर आठवें पायदान पर पहुंचा झांसी
टीकाकरण में झांसी चौथे स्थान से खिसकता हुआ, अब आठवें पायदान पर पहुंच गया है। जिले में 14.90 लाख लोगों के सापेक्ष 11.51 लाख को ही वैक्सीन की पहली डोज लग सकी है, जो कि 77.26 प्रतिशत है। वहीं, 4.51 लाख को ही दूसरी डोज लगी है, जो लक्ष्य का 30.28 फीसदी है।
झांसी से ये हैं आगे
जिला टीकाकरण
गौतम बुद्ध नगर 119.17 फीसदी
शाहजहांपुर 99.33 प्रतिशत
गाजियाबाद 87.27 प्रतिशत
लखनऊ 86.33 फीसदी
बरेली 80.98 प्रतिशत
कौशांबी 80.19 प्रतिशत
बदायूं 77.53 फीसदी
(नोट: ये आंकड़े पहली डोज के हैं।)
वर्जन..
स्वास्थ्य विभाग वैक्सीन की दूसरी डोज लगवाने से रह गए लोगों से लगातार संपर्क कर रहा है। कोरोना के नए रूप ने कई देशों में महामारी फैलानी शुरू कर दी है। टीका ही कोरोना से बचने का एकमात्र उपाए है। ऐसे में लोग वैक्सीन जरूर लगवाएं। – डॉ. अनिल कुमार, सीएमओ।

झांसी। कोरोना के नए स्ट्रेन (रूप) ओमीक्रॉन को लेकर देश-प्रदेश में अलर्ट जारी हो गया है। कई देशों में तेजी से यह लोगों को शिकार बना रही है। झांसी के लिए ये बेहद चिंताजनक बात है, क्योंकि देश में ये आ जाता है तो जिले में काफी तबाही मचा सकता है। इसकी मुख्य वजह एक बड़ी आबादी का टीकाकरण से दूरी बना लेना है। झांसी में लगभग तीन लाख लोगों को पहली और सात लाख को दूसरी डोज नहीं लगी है।

दक्षिण अफ्रीका से होेते हुए ओमीक्रॉन के मामले आसपास के कई देशों में सामने आने लगे है। प्रधानमंत्री समेत देश के कई विशेषज्ञ इसको लेकर चिंतित हैं। झांसी जिले के लिए भी कोरोना का नया रूप बेहद डरावना और चिंताजनक है। कोरोना की दूसरी लहर थम जाने के बाद अब लोग टीकाकरण को लेकर लापरवाही बरतने लगे हैं। वैक्सीनेशन सेंटरों पर जहां पहले लंबी-लंबी लाइनें लगी रहती थीं, वहां अब सन्नाटा पसरा हुआ है। यही नहीं, जिन लोगों ने वैक्सीन की पहली डोज लगवा ली है, उनमें से 17 फीसदी लोगों ने समय पर दूसरी डोज न लगवाकर सुरक्षा कवच तोड़ दिया है। यही नहीं, 25 फीसदी लोगों का दूसरी डोज लगवाने का समय भी आ गया है, वो भी टीकाकरण केंद्र पर नहीं पहुंच रहे हैं। ऐसे में लगभग सात लाख लोगों को कोरोना की दूसरी डोज नहीं लग सकी है। इसमें तीन लाख ऐसे लोग हैं, जिन्हें एक भी डोज नहीं लग पाई है।

चार से फिसलकर आठवें पायदान पर पहुंचा झांसी

टीकाकरण में झांसी चौथे स्थान से खिसकता हुआ, अब आठवें पायदान पर पहुंच गया है। जिले में 14.90 लाख लोगों के सापेक्ष 11.51 लाख को ही वैक्सीन की पहली डोज लग सकी है, जो कि 77.26 प्रतिशत है। वहीं, 4.51 लाख को ही दूसरी डोज लगी है, जो लक्ष्य का 30.28 फीसदी है।

झांसी से ये हैं आगे

जिला टीकाकरण

गौतम बुद्ध नगर 119.17 फीसदी

शाहजहांपुर 99.33 प्रतिशत

गाजियाबाद 87.27 प्रतिशत

लखनऊ 86.33 फीसदी

बरेली 80.98 प्रतिशत

कौशांबी 80.19 प्रतिशत

बदायूं 77.53 फीसदी

(नोट: ये आंकड़े पहली डोज के हैं।)

वर्जन..

स्वास्थ्य विभाग वैक्सीन की दूसरी डोज लगवाने से रह गए लोगों से लगातार संपर्क कर रहा है। कोरोना के नए रूप ने कई देशों में महामारी फैलानी शुरू कर दी है। टीका ही कोरोना से बचने का एकमात्र उपाए है। ऐसे में लोग वैक्सीन जरूर लगवाएं। – डॉ. अनिल कुमार, सीएमओ।



Source link

Continue Reading

Trending